शर्मनाक: तीन तलाक का विरोध करने वाली महिला पर फतवा, बोले- चोटी काट कर पत्थरों से मार दो

तीन तलाक और हलाला जैसी कुरीतियों के खिलाफ आवाज उठाने वाली निदा खान और फरहत नकवी के खिलाफ एक और फतवा जारी किया गया है. फतवे में कहा गया है कि निदा और फरहत की चोटी काट कर देने और उनको पत्थर मारने वाले को इनाम दिया जाएगा. ऑल इंडिया फैजान-ए-मदीना काउंसिल के अध्यक्ष मुईन सिद्दीकी नूरी ने 11,786 रुपये का इनाम देने का ऐलान किया है.

दोनों को फतवे में 3 दिन के अंदर देश छोड़ने का फरमान सुनाया गया है. फतवे में दोनों महिलाओं के खिलाफ अपशब्दों का प्रयोग किया गया है. गौरतलब है कि निदा को उनके शौहर ने तीन तलाक दे दिया था. इसके विरोध में निदा ने कोर्ट का सहारा लिया. कोर्ट ने पिछले हफ्ते तलाक को खारिज कर दिया. बरेली की एक अदालत ने तीन तलाक की पीड़िता निदा खान को बड़ी राहत देते हुए शौहर द्वारा दिये गये तीन तलाक को अवैध घोषित कर दिया था. अदालत ने इंस्टैंट तीन तलाक की शिकार निदा खान के शौहर शीरन की याचिका को खारिज कर दिया था, जिसमें उसने घरेलू हिंसा के केस पर स्टे लगाने की मांग की थी. अब मामले की अगली सुनवाई 27 जुलाई को होनी है.

आपको बता दें कि इंस्टैंट यानी एक साथ तीन तलाक के खिलाफ आवाज उठाने को लेकर पिछले दिनों भी निदा खान के खिलाफ फतवा जारी किया गया था. यह फतवा बरेली के ताकतवर व प्रभावशाली शहर इमाम मुफ्ती खुर्शीद आलम ने जारी किया था. फतवे में कहा गया था कि, ‘अगर निदा खान बीमार पड़ती हैं तो उन्हें कोई दवा उपलब्ध नहीं कराई जाएगी. अगर उनकी मौत हो जाती है तो न ही कोई उनके जनाजे में शामिल होगा और न ही कोई नमाज अदा करेगा’. फतवे में यह भी कहा गया है कि, ‘अगर कोई निदा खान की मदद करता है तो उसे भी यही सजा झेलनी होगी’. मुफ्ती खुर्शीद आलम ने फतवे में कहा है कि, ‘निदा खान से तबतक कोई मुस्लिम संपर्क नहीं रखेगा जबतक वे सार्वजनिक तौर पर माफी नहीं मांग लेती हैं और इस्लाम विरोधी स्टैंड को छोड़ती नहीं हैं’.

Facebook Comments