शुक्र ने बदली अपनी चाल, राशि परिवर्तन से Market में आएगा उछाल

आलोच्य सप्ताह (4 से 10 जुलाई तक) के पहले हिस्से में सिर्फ एक सितारा—शुक्र अपना राशि परिवर्तन करता है। शुक्र कर्क राशि पर से निकल कर सिंह राशि पर प्रवेश करता है, जबकि अन्य ग्रह अपने-अपने स्थान पर टिके रहते हैं। सूर्य तथा बुध नक्षत्र पर अपनी स्थिति ज़रूर बदलते हैं। शुक्र के राशि परिवर्तन के कारण टूटते बनते ग्रह-योग को स्टडी करने से मालूम होता है कि यह सप्ताह महत्वपूर्ण होगा, क्योंकि इसमें उठा-पटक के साथ-साथ एक रुख का प्रभाव भी बाज़ार पर बना रहेगा।

व्यापारियों को अपने आपको उठा-पटक में फंसने से बचाए रखना चाहिए, क्योंकि यदि वे उठा-पटक में फंस गए तो निकट भविष्य में आने वाले मौकों का वे लाभ न उठा सकेंगे। बहरहाल इस कालम को रैगुलर पढ़ने वाले लाभ उठाते रहेंगे। यूं तो आलोच्य सप्ताह में रुख में कमज़ोरी बनी रह सकती है, तो यह भी नोट करें कि बाजार रुख की निर्भरता 5 जुलाई के रुख पर होगी। इस सप्ताह में 5, 6, 7 जुलाई हलचल वाले दिन—5 जुलाई के लिए किसी अच्छे मौके पर लगे एक तरफे फल सकते हैं।

तेल सोया, तेल मूंगफली, सरसों, अलसी, तोरिया, तिल, तेल, बिनौला, अरंडी, खल, सींगदाना, मेंथा, पिपरामैंट अन्य तेल पदार्थों, वनस्पति इत्यादि में 5 जुलाई को मंदा बनने की सूरत में आगे मंदा चलेगा, बीच में 6-7 जुलाई मजबूती के रिएक्शन आएंगे। कॉटन, पटसन, रूई, कपास, सन्न, सूत, सिल्क, स्टैपल, ऊनी, सूती, रेशमी कपड़े तथा यार्न इत्यादि में 5 जुलाई के रुख को देख कर आगे सप्ताहांत तक काम करें— बीच में 6, 7 जुलाई उठा-पटक का जोर रहेगा। शेयर मार्कीट में 5 जुलाई को झटका के साथ बाजार एक तरफ चल सकता है, फिर 6, 7 जुलाई बाजार स्टेबल-सा रहेगा।

सोना, चांदी, हीरे, जवाहरात, बहुमूल्य पत्थरों, बहुमूल्य धातुओं में 4 जुलाई को पिछला रुख। 5 जुलाई को मंदा बनने पर आगे मंदा समझें, किन्तु यदि 5 जुलाई को बाजार तेज रहे तो फिर आगे तेजी का काम करें—बहरहाल 6, 7  जुलाई उठा-पटक रहेगी। गुड़, खांड, शक्कर तथा अन्य मीठी रसदार वस्तुओं तथा मिश्री इत्यादि में बेशक उठा-पटक तो होती रहेगी, तो भी आम रुझान में कमजोरी तथा डलनैस बनी रहेगी।

गेहूं, गवारा, मटर, मक्की, चने, जौ, बाजरा, अरहर, मूंग, माष तथा अन्य अनाज पदार्थों तथा दालों इत्यादि में तेजी रुख बना रह सकता है, किन्तु नोट करें कि यदि 5 जुलाई को तेजी न बने तो फिर तेजी का काम कदापि न करें। हाजिर मार्कीट में मिला-जुला प्रभाव दिखेगा—यानी कि किसी समय ग्राहकी नजर आएगी, तो किसी समय ग्राहकी का अभाव नजर आएगा।

Facebook Comments