जरा हटके : इस भारतीय क्रिकेटर की 10 बीवियां,50 बच्चे और 350 गर्लफ्रेंड,पैसे देकर भारत बुलाता था विदेशी टीम

क्रिकेटर शमी और उनकी पत्नी की खबरें आजकल सुर्खियों में हैं। ऐसे दौर में हम आपको भारत के ऐसे क्रिकेटर के बारे में बताएंगे जिसके पास 10 पत्नियां, 50 बच्चे और 350 गर्लफ्रेंड थीं। पटियाला की पुरानी रियासत में महाराजा भुपिंदर सिंह राज किया करते थे। महाराजा भूपिंदर सिंह ने 1900 से 1938 तक राजगद्दी को संभाला।

पुरानी रियासत के महल आज भी महाराजा भुपिंदर सिंह की 365 रानियों के किस्से बयान करते हैं। इतिहासकारों के मुताबिक महाराजा भूपिंदर सिहं की 10 अधिकृत रानियों सहित कुल 365 रानियां थीं। इन 365 रानियों के लिए पटियाला में भव्य महल बनाए गए थे। हालांकि महाराजा की रानियों के किस्से तो अब इतिहास में दफन हो चुके हैं। लेकिन उनकी कुछ पुरानी बातें आज भी लोगों को याद हैं।

क्रिकेटर थे महाराज : भूपिंद्र सिंह राजा होने के साथ साथ एक क्रिकेटर भी थे। उन्होंने कई फर्स्ट क्लास मैच खेले और पटियाला टीम के कप्तान भी बने। महल परिसर में उनका अपना क्रिकेट मैदान था। एक बार महाराजा ने पूरी की पूरी ऑस्ट्रेलियाई टीम को भारत मैच खेलने के लिए बुलाया। इसके एवज में महाराज ने उन्हें 10000 पाउंड की रकम भी दी। रानी के नाम की लालटेन बुझती थी :
दीवान जरमनी दास के मुताबिक महाराजा भूपिंदर सिंह की दस पत्नियों से 83 बच्चे हुए थे। इनमें 53 ही जिंदा बच पाए थे। महाराजा पटियाला के महल में रोजाना 365 लालटेनें जलाई जाती थीं। हर लालटेन पर उनकी 365 रानियों के नाम लिखे होते थे। जो लालटेन सुबह पहले बुझती थी महाराजा उस लालटेन पर लिखे रानी के नाम को पढ़ते थे। फिर उसी के साथ रात गुजारते थे।

10 एकड़ क्षेत्र में फैला है किला :
महाराजा भुपिंदर सिंह का किला पटियाला शहर के बीचोबीच 10 एकड़ क्षेत्र में फैला हुआ है। मुख्य महल, गेस्ट हाउस और दरबार हॉल इस किले के परिसर के प्रमुख भाग हैं। इस परिसर के बाहर दर्शनी गेट, शिव मंदिर और दुकानें हैं। इन दोनों महलों को बड़ी संख्‍या में भीत्ति चित्रों से सजाया गया है, जि‍न्हें महाराजा नरेन्द्र सिंह की देखरेख में बनवाया गया था। किला मुबारक के अंदर बने इन महलों में 16 रंगे हुए और कांच से सजाए गए चैंबर हैं।

Facebook Comments