500 लोगों को योगा सिखाती है ये सुपरनानी, रोजाना सुबह इस तरह करती है योगा

भारत की विश्व समुदाय को अनेक महत्त्वपूर्ण देनों में से एक है योग। आज दुनिया के कौने-कौने में चौथे अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मनाया जा रहा है।

 

इस खास अवसर पर हम आपको 98 साल की एक महिला के बारे में बताते हैं, जो योग को अपना दिनचर्या का काम मानती है।
s
इस उम्र में जीवन का वो पड़ाव जब ज्यादातर लोगों को चलने—फिरने में तमाम तकलीफों का सामना करना पड़ता है उस उम्र में कोयंबटूर की नन्नामल एक मिसाल हैं।
नन्नामल के जीवन में बीमारियों के लिए कोई जगह नहीं है। वे रोजाना योग करती हैं और सिखाती भी हैं। इन्हें भारत की सबसे बुजुर्ग योग गुरु के नाम से जाना जाता है। वे 20 से अधिक कठिन आसनों को बेहद आसानी से कर लेती हैं।
नन्नामल ने योग की शिक्षा अपने पिता से ली थी जो खुद एक चिकित्सक थे। पूरी जिंदगी सेहतमंद रहने और दूसरों को स्वस्थ बनाने के लिए समर्पित नन्नामल का शरीर आज भी इतना फ्लेक्सिबल है जितना किसी छोटे बच्चे का होता है।
नन्नामल रोजाना सुबह जल्दी उठकर आधा लीटर पानी पीती हैं और बच्चों को योग सिखाने निकल जाती हैं। वे अपनी डाइट का खास ख्याल रखती हैं इसमें वे ऐसी चीजें शामिल करती हैं जिसमें फायबर और ​कैल्शियम की मात्रा अधिक होती है।
उनका योग करना आदत बन चुकी है। वे सादा भोजन करती हैं। रात का खाना 7 बजे तक खाकर जल्दी सो जाती हैं। अपनी डाइट में नन्नामल फल और शहद को जरूर शामिल करती हैं। यही वजह है कि वो आज भी फिट है।
पूरी दुनिया में लगभग इनके 500 छात्र हैं। पहले वो अपने घर में कुछ लोगों को ही योग सिखाती थीं, पर एक प्रतियोगिता में भाग लेने के बाद इनको प्रसिद्धि मिली, जिसके बाद ये 100 से ज़्यादा प्रतियोगिताओं में हिस्सा ले चुकी हैं। अब योग इनके परिवार की विरासत बन चुका है।
Facebook Comments