ये 6 आदतें बदल डालिए, हमेशा रहेंगे जवान

आज ज्यादातर लोग ऐसे हैं, जो स्वास्थ्य का ध्यान नहीं रख पाते हैं और समय से पहले ही बुढ़ापे का शिकार हो जाते हैं। जल्दी बाल सफेद होना, शरीर कमजोर हो जाना, दांत कमजोर होना, गाल अंदर बैठना, जल्दी थक जाना, पाचन-तंत्र बिगड़ जाना, आंखें कमजोर होना सभी बुढ़ापे के लक्षण हैं। लेकिन, यह सिर्फ बूढ़े होने पर ही नहीं होता, बल्कि जवानी के दिनों में ही काफी युवा इन समस्याओं के शिकार होते हैं। इसके पीछे 6 बड़ी वजह हैं, जिनसे बुढ़ापा जल्दी आता है।

ज्यादा मात्रा में पानी पीना: कई लोग यह मानते हैं कि अधिक मात्रा में पानी पीने से व्यक्ति स्वस्थ रहता है, लेकिन वे यह नहीं जानते हैं कि किडनी को उतना ही अधिक कार्य भी करना होगा। बहुत अधिक मात्रा में पानी पीने से व्यक्ति में जल्दी बुढ़ापा आता है। अधिक पानी पीने से आपके वात, पित्त और कफ का संतुलन बिगड़ जाता है। भोजन करते समय और भोजन के तुरंत बाद पानी नहीं पीना चाहिए। हमेशा बैठकर ही पानी पीना चाहिए।

दिन में सोना और रात में जागना: आजकल की लाइफस्टाइल में सोना बहुत जरूरी है। डॉक्टर्स भी मानते हैं आधे से ज्यादा समस्या कम सोने की वजह से होती है। लेकिन, आजकल की दिनचर्या पूरी तरह बदल गई है। देर तक टीवी देखना या ऑफिस में काम करना और उसके बाद दिनभर या सुबह देर तक सोना की आदत होती है।

यह आदत बुढ़ापे को जल्दी आमंत्रित करती है। नींद कई रोगों को ठीक करने में सक्षम है। नींद का टाइमिंग बिगड़ने से नींद की कमी हो जाती है। नींद की कमी से न केवल आंखों के आसपास कालापन आता है, बल्कि कम सोने से दिमाग थका हुआ महसूस करता है और वजन भी बढ़ता है।

हैवी डाइट लेना: अक्सर लोग पेट भरने के लिए हैवी डाइट लेते हैं। लेकिन, हैवी डाइट के चलते इसे पचाने में आंतों को ज्यादा समय लगता है। अगर आप भी ऐसा भोजन कर रहे हैं तो ध्यान रखिए ऐसी डाइट से पेट फूल जाता है। भले ही यह स्वाद में अच्छा लग सकता है, लेकिन शरीर को उसे पचाने में ज्यादा ऊर्जा खर्च करनी पड़े तो शरीर उतना एनर्जी से भरा नहीं रहेगा। मांसाहारी भोजन के अलावा आलू, अरबी जैसी सब्जियां भी पेट फूलने का कारण होती हैं। बिना मांड वाला चावल, ज्यादा तली या मसालेदार चीजें, जंक और फास्ट फूड इन सभी में शामिल है। इससे मोटापा बढ़ता है, जो धीरे-धीरे बुढ़ापे की ओर ले जाता है।

डिप्रेशन भी है बुढ़ापे का कारण: डिप्रेशन इंसान को मानसिक और भावनात्मक रूप से कमजोर बना देता है। एक शोध के मुताबिक, इन समस्याओं के साथ ही डिप्रेशन बुढ़ापा भी जल्द लाता है। नीदरलैंड के वैज्ञानिकों ने एक शोध में पाया है कि डिप्रेशन के कारण शारीरिक क्षमताओं पर भी बुरा असर पड़ता है और यह सेल्स में एजिंग की प्रक्रिया को तेज कर देता है। जो लोग गंभीर किस्म के डिप्रेशन का शिकार होते हैं, वे बाकी लोगों के मुकाबले जल्दी बूढ़े हो जाते हैं। यह नतीजा 2,407 लोगों पर किए गए एक शोध में निकाला गया।

अधिक नमक खाना: मात्रा से अधिक नमक खाने से बुढ़ापा जल्दी आता है। वैज्ञानिकों का कहना है कि सोडियम की बहुत अधिक मात्रा लेने से कोशिकाओं का क्षय होता है। इसका प्रभाव अधिक वजन वाले लोगों में सबसे ज्यादा देखा जाता है। जो लोग मोटे होते हैं और चिप्स आदि के जरिए बहुत अधिक नमक खाते हैं। उनके शरीर में कोशिकाओं की आयु तेजी से बढ़ने लगती है। इस कारण वे जीवन में बाद के वर्षों में हृदय रोग के शिकार हो सकते हैं। भोजन में नमक की कमी करने से कोशिकाओं की आयु बढ़ने की प्रक्रिया धीमी हो जाती है। आगस्ता स्थित जॉर्जिया रीजेंट्स यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने एक अध्ययन किया है जिसमें उन्होंने निष्कर्ष निकाला है कि खाने में नमक की अधिक मात्रा से शरीर की कोशिकाओं का क्षय होता है।

नशा करना: तंबाकू, धूम्रपान या शराब को पहले व्यक्ति पीता है, इसके बाद यह व्यक्ति को पीने लगती है। धूम्रपान से कुछ ही दिनों में त्वचा पर बुरा असर पड़ता है। शराब आपके लिवर, दिल और दिमाग को कमजोर करती जाती है। तंबाकू चबाने की आदत से व्यक्ति के दांत और गाल वक्त के पहले ही खत्म हो जाते हैं। जहां तब सवाल स्मोकिंग का है तो इससे त्वचा खुश्क होती है और चेहरे पर झुर्रियां पड़ती हैं। स्मोकिंग से शरीर में विटामिन सी का स्तर भी घटता है, जबकि विटामिन सी का काम त्वचा की नमी बनाए रखना होता है।

Facebook Comments