पिछले चार साल से गुमराह कर रही हैं सुषमा स्वराज, घरवालों ने लगाया आरोप

मोसुल में अगवा किए 39 भारतीयों की मौत का पता अब जाकर देश की सरकार ने लगा ही लिया. आज सदन के शुरू होने पर भी मुख्य मुद्दा यही था जिसके बाद विपक्ष के हंगामे के बाद संसद भी स्थगित कर दी. अब मृत भारतीयों के परिवार वालों ने सुषमा स्वराज पर निशाना साधते हुए कहा कि पिछले चार सालों से सरकार हमें बेवकूफ बना रही थी.

मृतकों में से एक अमृतसर के गुरुचरण सिंह की पत्नी ने कहा, वह 2013-14 में ही मोसुल से निकल चुके थे और कह रहे थे कि यहां सब ठीक है. लेकिन अब विदेश मंत्री ने ऐसा बयान दिया है. हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा के रहने वाले मृतक अमन के पिता राजेश चंद ने कहा कि उनका बेटा 2013 में ही इराक से निकल चुका था. वह हर शुक्रवार को अपने पिता से बात करता था और उसने बताया था कि वहां सभी सुरक्षित हैं. मृतक के पिता ने कहा कि अब सरकार से क्या मांग की जाए हम तो अपना बेटा खो चुके हैं.

आपको बता दें, इन्हीं भारतीयों में से एक हरजीत भी उस समय मोसुल में था लेकिन वह जान बचाकर भारत आ गया था. हरजीत ने भी सरकार पर आरोप लगाए है. हालाँकि सुषमा स्वराज ने इन आरोपों का खंडन किया है. घटना के बाद एक चीज तो सबके सामने है, विदेश नीतियों की बात करने वाली केंद्र सरकार अपने ही लोगों को गुमराह कर रही है. ऐसे में परिजनों के द्वारा लगाया गया यह आरोप सोचने पर मजबूर करता है.

Facebook Comments