मौत के बाद भी इस गांव लोग जा रहे हैं शौचालय, हकीकत मजेदार है

उन्होंने मामले में कमीशनखोरी की ओर भी टीम का ध्यान दिलाया है और मांग की है कि जिम्मेदारों के खिलाफ कार्रवाई की जाए। 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का स्वच्छता अभियान न केवल इंसानों बल्कि आत्माओं को भी प्रभावित कर रहा है। जी, हां ये सच है कि अब आत्माएं भी शौचालय का प्रयोग कर रही हैं। दरअसल, यह मामला बिहार का है। यहां के हथडीहां गांव में बने शौचालयों के सरकारी दस्तावेजों को देखकर तो यही लगता है कि आत्माएं भी स्वच्छता अभियान से जुड़ गई हैं और शौचालयों का प्रयोग कर रही हैं।

दरअसल, आरटीआई कार्यकर्ता सौरभ तिवारी ने यहां शौचालयों के लिए आवंटित की गई राशि की जानकारी मांगी थी। सरकारी अधिकारियों ने उन्हें जो जानकारी दी, उसके अनुसार मृतकों को भी शौचालय बनवाने के लिए पैसा आवंटित किया गया है। सौरभ तिवारी को जो जानकारी मिली, उसके अनुसार हथडीहां गांव में ऐसे व्यक्ति के नाम पर शौचालय बनवाया गया, जिसकी मौत नौ साल पहले हो चुकी है। उन्होंने बताया कि ऐसे एक नहीं कई मामले हैं। शौचालय बनवाने के लिए हरिवंश तिवारी के नाम पर पैसा दिया गया, जबकि उनकी मौत नौ साल पहले हो चुकी है। वहीं सरदार साह की मौत 6 महीने पहले हो चुकी है।

सौरभ का कहना है कि क्या मृ​तक की आत्मा शौचालय जा रही है, जो उसके नाम पर राशि आवंटित की गई है। सौरभ ने इसकी शिकायत की है। इतना ही नहीं यहां पर पूरे परिवार के नाम भी शौचालय बनाने की राशि आवंटित की गई है। तिवारी ने राज्य स्तरीय टीम को मामले से अवगत कराया है। उन्होंने मामले में कमीशनखोरी की ओर भी टीम का ध्यान दिलाया है और मांग की है कि जिम्मेदारों के खिलाफ कार्रवाई की जाए।

Facebook Comments