जाको राखे साइयां मार सके ना कोए, मां की ट्रक से कुचलकर मौत, पेट फाड़कर निकली नवजात बच्ची

ब्राजील से एक बेहद ही दर्दनाक मामला सामने आया है। यहां सड़क हादसे में एक महिला की जान चली गई, लेकिन उसके गर्भ में पल रही नवजात बच्ची की जान बच गई। ट्रक की हालत देखकर अंदाजा लगाया जा सकता है कि इस हादसे में किसी का बचना नामुमकिन था, फिर मां के गर्भ से गिरकर बच्ची का बचना वाकई इसे आप भगवान का चमत्कार ही कह सकते हैं।

दरअसल, एक ट्रक लकड़ी की बल्लियों लेकर जा रहा था, लेकिन अचानक अनबैलेंस होकर साओ पाउलो और क्यूरिटिबा के बीच पलट गया। इस ट्रक पर प्रेग्नेंट महिला बैठी हुई थी, जिसने ड्राइवर से लिफ्ट मांगी थी। सड़क हादसे में ट्रक बुरी तरह पलटा और मैके पर ही महिला की जिंदगी खत्म हो गई। पुलिस मौके पर पहुंची और बल्लियां हटाने लगी। बल्लियां हटाते हुए पुलिस ने जो देखा वो वाकई दंग करने वाला था। पुलिस ने देखा कि ट्रक के नीचे महिला दबी हुई है, लेकिन अब वह जिंदा नहीं था। महिला प्रेग्नेंट थी लेकिन उसका पेट फटा हुआ था।

पुलिस ने बताया कि खोजबीन में थोड़ी ही दूरी पर रोती हुई एक नवजात बच्ची मिली। वह घास पर पड़ी हुई थी। हालांकि बच्ची को किसी तरह की कोई चोट नहीं आई थी, लेकिन उसकी गर्भनाल लकड़ी के नीचे दबकर कट गई थी। इस हादसे ने सबको दहला दिया था। पुलिस ने तुरंत एंबुलेंस बुलवाकर महिला को अस्पताल पहुंचाया। फिलहाल बच्ची का अस्पताल में ही देखरेख किया जा रहा है।

ट्रक ड्राइवर जोनाथन फेरेरा पर हत्या का आरोप है। उसने बताया कि वह महिला को नहीं जानता था कि वह कौन है, उसने बस उसे लिफअट दी थी। ड्राइवर ने बताया कि यह घटना वाकई किसी चमत्कार से कम नहीं है। वरना मां का पेट फटना और बच्ची का बाहर निकलना ये कैसे मुमकिन है? जब मैंने महिला को तख्ती के नीचे दबा देखा तो बचाने की कोशिश की, लेकिन जब मैं उसे नहीं बचा पाया तो मैंने बच्ची को बचाया।

महिला 39 हफ्ते की गर्भवती थी। उसके पास कोई भी डॉक्यूमेंट नहीं था जिससे उसकी पहचान की जा सके। पुलिस महिला के पहचान करने की कोशिश कर रही है। उन्होंने महिला के रिश्तेदारों से अपील की है। पुलिस ने कहा कि अगर कोई नहीं मिला, तो महिला को अज्ञात के रूप में दफना दिया जाएगा। वहीं बच्ची को अनाथालय में सौंप दिया जाएगा। अस्पताल ने बच्ची को ‘गियोवान्ना’ नाम दिया है, जिसका अर्थ होता है- भगवान द्वारा बचाया गया।

Facebook Comments