मौत का बवंडर अब तक करीब 200 लोगों की जान गई,हो रहा पूरा शहर खाली….

 

भारत के साथ अमेरिका में भी प्रकृति का कहर जारी है। अमेरिका के हवाई द्वीप में एक विशाल ज्वालामुखी फटने से आम जन-जीवन पर काफी प्रभाव पड़ा है।

पूरे उत्तर भारत में इन दिनों प्रकृति ने कहर मचाया हुआ है। मौत का बवंडर अब तक करीब 200 लोगों की जान ले चुका है।

किलाएवा नाम के इस ज्वालामुखी के फटने से दूर-दूर तक धूल और राख का गुबार फैल गया जिसके बाद वहां रह रहे लोगों को घर छोड़ने पर मजबूर होना पड़ा। अंतरराष्ट्रीय मीडिया के मुताबिक शुक्रवार को ज्वालामुखी फटने के बाद हवाई में एक के बाद एक भूकंप भी आए हैं। अधिकारियों का कहना है कि अब तक ज्वालामुखी के आसपास रहने वाले 1700 से ज्यादा लोग विस्फोट वाली जगह से निकल गए हैं।

विस्फोट के बाद राज्य की सड़कों पर पड़ी दरारों से भाप निकल रही है। प्रशासन ने चेतावनी दी है कि गर्म चट्टानें और सल्फ्यूरिक (गंधक) गैस बुजुर्ग लोगों के लिए जानलेवा हो सकती है। वहीं, लोगों को सांस लेने में भी दिक्कत हो सकती है।

दहकता लावा बहने से कई सड़कों को भी नुकसान पहुंचा है। ज्वालामुखी विस्फोट के बाद 14,000 लोगों के घरों की बिजली भी गुल हो गई जो दो घंटे बाद बहाल हो पाई।

उधर, हवाई वोल्केनोज़ नेशनल पार्क घूमने आए सभी पर्यटकों व अन्य लोगों को पार्क से बाहर निकाल लिया गया है। यूनिवर्सिटी ऑफ हवाई और हवाई कम्युनिटी कॉलेज को भी बंद कर दिया गया है।

किलाएवा ज्वालामुखी दुनिया के सबसे सक्रिय ज्वालामुखियों में से एक है। 1983 से लगातार इसमें से लावा निकल रहा है। इस हफ्ते की शुरुआत में इसमें विस्फोट होने की संभावना जताई गई थी। बताया जा रहा है कि शुक्रवार को हुए विस्फोट के बाद 6।9 की तीव्रता से आया भूकंप पिछले 40 सालों में हवाई में आया सबसे बड़ा भूकंप है।

 

Facebook Comments