क्या आप जानते है कि लाल किला को लाल किला क्यों कहते हैं?

देश में ज्यादातर लोगों को यही लगता है कि लाल किले का असली रंग लाल है। इसी वजह से इसको यह नाम मिला है। लेकिन सच्चाई कुछ और ही है, जब इसका निर्माण हुआ तो इसका लाल नहीं बल्कि सफ़ेद था।

भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग के मुताबिक इस इमारत के कई हिस्से चूना पत्थर से बनाए गए थे, जिसकी वजह से इसका रंग सफेद था। बताया जाता है कि कुछ समय बाद चूना पत्थर खराब होकर गिरने लगा था, तो अंग्रेजों ने उस पर लाल रंग करा दिया। इसी वजह से बाद में इसे ‘लाल किला’ कहा जाने लगा।

इसका असली नाम किला-ए-मुबारक है। मुगल शासन में शाही परवार के लोग इसे मुबारक किला भी कहते थे।

1857 की क्रांति के बाद इस पर अंग्रेजों ने अधिकार जमा लिया। दुनिया का सबसे बड़ा कोहिनूर हीरा भी एक वक्त पर इसी इमारत में रखा हुआ था। दरअसल शाहजहां जिस तख्त पर बैठा करते थे ये हीरा उसी में लगा हुआ था।

Facebook Comments