ट्रांसजेंडर फेस्टिवल का हुआ समापन, किन्नर हर रात अरावन की पूजा के लिए जाते है यहाँ….

आज हम किन्नरों की बात इसलिए कर रहे हैं, क्योंकि हाल ही में तमिलनाडु के कूवगम गांव में एक ट्रांसजेंडर फेस्टिवल का समापन हुआ है। इस कूवगम गांव को किन्नरों का तीर्थ स्थल माना जाता है। दो मई को खत्म हुआ ये फेस्टिवल 18 दिन तक चलता है।

किन्नरों से जुड़े कई इवेंट्स यहां होते हैं। इस महापर्व में किन्नर हर रात को अर्जुन के पुत्र अरावन की पूजा करने के लिए मंदिर जाते हैं। यहां महाभारत में भगवान कृष्ण के मोहिनी रूप की लीला भी दिखाई जाती है।

यहां महाभारत की एक कहानी का मंचन किया जाता है। इसमें कूथनदावर मंदिर में अर्जुन के बेटे अरावन से विवाह का प्रसंग दिखाया जाता है। कथा के अनुसार, कृष्ण ने मोहिनी का रूप धारण कर अरावन से शादी करते हैं। बाद में पांडवों और कौरवों के बीच युद्ध के दौरान देवी काली ने अरावन का वध कर देने से मोहिनी विधवा हो जाती है।

इस कहानी पर ही पर्व में किन्नर एक रात के लिए अरावन से विवाह करते हैं। अगले दिन अरावन की प्रतिमा को गांवभर में घुमाया जाता है और नष्ट कर दिया जाता है। मूर्ति के नष्ट होने के बाद सभी किन्नर सफेद साड़ी पहन लेते हैं। मातम करते हुए सभी अपने मंगलसूत्र काट देते हैं और चूड़ियों को नारियल से तोड़ दिया जाता है

इस फेस्टिवल की सबसे बड़ी जान होती है, इसका ब्यूटी कॉन्टेस्ट। मिस कूवगम कॉन्टेस्ट बिल्कुल उसी तरह किया जाता है, जैसे मिस इंडिया का कॉन्टेस्ट होता है। इस साल चेन्नई की किन्नर मोबिना ने मिस कूवगम ब्यूटी कॉन्टेस्ट में जीत हासिल की है। चेन्नई की ही प्रीति ने प्रतियोगिता में दूसरा और इरोड की शुभाश्री थर्ड नंबर पर रहीं।

 

Facebook Comments