काव्य दिवस उमरी पब्लिक स्कूल में मनाया गया….

उमरी पब्लिक स्कूल के संस्थापक प्रबंधक डॉ इज़हार अहमद खान उमरी की ७ वी पुण्य तिथि के उपलक्ष्य में स्कूल प्रांगण में काव्य दिवस का आयोजन किया गया, जिसमे छात्र छात्राओं ने डॉ उमरी की रचनाओं का पाठन किया, इससे पूर्व स्कूल प्रबंधक अज़हर उमरी ने डॉ उमरी के चित्र पर माल्यार्पण किया।
छात्र छात्राओं को सम्बोधित करते हुए अज़हर उमरी ने कहा कि डॉ उमरी ने अपने जीवन काल में साहित्य की हर विधा पर अपनी रचना प्रस्तुत की, आप को देश में ही नहीं विदेशो में कई सम्मान मिले, आपको अमेरिकन बायोग्राफिकल इंस्टीट्यूट से दो बार मैन ऑफ़ द ईयर सम्मान मिला।
आप की गिनती उन खास लोगो ने है जो जिनको डी लिट् की उपाधि मिली है, उमरी ने कहा की उनका ख्वाब था कि हर गरीब हो या अमीर सभी बच्चो को शिक्षा मिलनी चाहिए, इसी उद्देश्य को पूरा करने के लिए जगदीश पुरा की मलिन बस्ती बेर का नगला में सन २००० में स्कूल की नीव रखी, उनके उद्द्देश्य को पूरा करते हुए स्कूल निरंतर विकास की तरफ बढ़ रहा है, सम्बोधन के पश्चात स्कूल के बच्चो के डॉ उमरी की रचना बाबू का सपना, न राम हूँ न रहीम हूँ, आदिल रचना को प्रस्तुत किया।
इस मौके पर बच्चो को पठन सामग्री और मिष्ठान वितरित किये गए, कार्यक्रम में प्रधानाचार्य हुमा सैफ, रजनी, रेखा, नेहा सविता, ऋतू, किरन, वैष्णवी, अंजली, डॉली, अनु झा, आदि मौजूद रहे , व्यवस्था सुहैल उमरी ने और संचालन दानिश उमरी ने किया।
Facebook Comments