आज की सबसे बड़ी खबर : अमित शाह के घर के बाहर इकट्ठा हुआ UPSC उम्मीदवार, जमकर किया प्रदर्शन

यूपीएससी परीक्षा के विद्यार्थियों ने भाजपा के राष्ट्रिय अध्यक्ष अमित शाह के घर के बाहर प्रदर्शन कर सिविल सेवा परीक्षाओं में बैठने का एक अवसर दिए जाने की मांग की है. उनका दावा है कि 2011 2015 के बीच अचानक हुए नियमों में बदलाव के कारण वे प्रभावित हुए थे. एक प्रदर्शनकारी के अनुसार, गुरुवार मध्यरात्रि के लगभग उन्होंने लुटियंस दिल्ली में शाह के घर के बाहर जमकर प्रदर्शन किया. उनकी संख्या करीब 52 थी अमित शाह के घर के बाहर उन्होंने मोमबत्तियां जलाईं. पुलिस ने कहा है कि यह शांतिपूर्ण प्रदर्शन था.

एक प्रदर्शनकारी के अनुसार आयोग की ओर से गठित अरूण एस. निगावेकर समिति यूपीएससी की अपनी वार्षिक रिपोर्ट में बताया गया है कि ‘सीसैट की वजह से 2011 से 2014 के बीच क्षेत्रीय भाषाओं मानविकी पृष्ठभूमि के छात्रों के चयन में गिरावट दर्ज की गई है.’ सामान्य अध्ययन द्वितीय प्रश्न पत्र के अंक 2011-14 के समय प्रारंभिक परीक्षा में सफल हुए अभ्यर्थियों के ऐलान के लिए जोड़े जाते थे.

एक प्रदर्शनकारी ने जानकारी देते हुए बताया कि, ‘2015 में यूपीएससी ने सामान्य अध्ययन द्वितीय प्रश्न पत्र को क्वालिफाइंग प्रकृति का कर दिया गया था. परीक्षा के पैटर्न में निरंतर बदलाव सीसैट के भेदभाव पूर्ण प्रकृति की वजह से हमने परीक्षा में बैठने के कई बहुमूल्य अवसर गंवाए है. हम सरकार से इंसाफ की मांग करते हैं. हम सरकार से नौकरी नहीं मांग रहे हैं बल्कि परीक्षा में बैठने का एक अवसर मांग रहे हैं.’

Facebook Comments