न्यायिक अधिकारी को कार्यालय में पीने के लिए दिया गया urine water….

एक न्यायिक अधिकारी को कार्यालय में पीने के लिए दिए गए पानी में यूरिन पाया गया है।शक होने पर जब न्यायिक अधिकारी ने पुलिस को इसकी शिकायत दी तो पानी के सैंपल लेकर फोरेंसिक लैब भेजे गए।
रिपोर्ट में खुलासा हुआ कि पानी में यूरिन मिलाया गया है। पुलिस ने  धारा 269, 270, 272 व 324 के तहत केस दर्ज कर आरोपी कर्मचारी को नोटिस भेज दिया है। न्यायालय में इस तरह का मामला आने से पुलिस भी स्तब्ध है।

चपरासी ने ऐसा कदम क्यों उठाया इसका अभी तक खुलासा नहीं हो पाया है। पुलिस में दी शिकायत में आरोप हैं कि कार्यालय में एक चपरासी पिछले कई दिनों से उन्हें बोतल में पानी दे रहा था। एक दिन बोतल से बदबू आने लगी। इसमें मिलावट का शक हुआ। इस पर अधिकारी ने पुलिस में शिकायत दी और पानी का सैंपल फोरेंसिक लैब भेजा गया। लैब में पड़ताल के बाद पाया गया कि बोतल के पानी में यूरिन मिला हुआ है। लैब ने यह जांच रिपोर्ट पुलिस विभाग को सौंप दी है।

पुलिस का कहना है कि कर्मचारी पर जो आरोप लगे हैं, उसके आधार पर तुरंत गिरफ्तारी संभव नहीं है। थाना प्रभारी डॉ. आकृति शर्मा ने मामले की पुष्टि की कि शिकायत पर चपरासी के खिलाफ विभिन्न धाराओं के तहत केस दर्ज कर लिया है। उन्होंने एफएसएल से आई जांच रिपोर्ट में पानी में यूरिन होने की बात मानी है। उधर, पुलिस अधीक्षक रमन कुमार मीणा ने कहा कि मामले की तफ्तीश जारी है।

 

Facebook Comments