सेना ने की अच्छी खातिरदारी, पहले मौत के घाट उतारा फिर जमीन पर घसीटते ले गए आतंकी की लाश

जम्मू-कश्मीर में इंडियन आर्मी के एक फोटो पर सोशल मीडिया में बहस छिड़ी हुई है. फोटो में दिख रहा है कि इंडियन आर्मी के जवान एक मृत आतंकी को जंजीर से बांधकर घसीटते हुए ले जा रहे हैं. इस फोटो के कारण कश्मीर में मानवाधिकार के ऊपर नई बहस छेड़ दी है.

श्रीनगर. इंडियन आर्मी के इस कृत्य का फोटो वायरल होने के पश्चात सोशल मीडिया प्लेटफ़ॉर्म पर भी बहस छिड़ गई है. माइक्रोब्लॉगिंग साइट ट्विटर पर एक धड़ा इसको भारतीय सेना की बर्बरतापूर्ण कृत्य बता रहा है, इससे कश्मीर में मानवाधिकार के ऊपर चर्चा तेज हो गई है.

कश्मीर में मानवाधिकार के मसले पर भारतीय सेना के ऊपर पूर्व में भी सवाल उठते रहे हैं. ऐसे में इस फोटो ने एक बार पुनः चर्चा खड़ी कर दी है. ये मामला धिरटी गांव में हुआ बताया जा रहा है, जो कि साउथवेस्ट कश्मीर के रियासी जिले में ककरयाल एरिया के निकट पड़ता है. मीडिया रिपोर्ट के अनुसार जम्मू श्रीनगर नेशनल हाइवे पर पुलिस तथा आर्मी ने आतंकियों के विरुद्ध संयुक्त अभियान चलाया था. जिसमें 3 आतंकी ढेर हो गए. ये आतंकी नेशनल हाइवे के निकट एक कैफे तथा झज्जर कोटली के वनों में छिपे हुए थे.

जम्मू-कश्मीर में मानवाधिकार कार्यकर्ता के रूप में कार्य करने वाले खुर्रम परवेज ने फोटो को ट्वीट करते हुए इसे इंडियन आर्मी के द्वारा बर्बरतापूर्वक कदम बताया है. सामाजिक कार्यकर्ता कविता कृष्णन के द्वारा इस फोटो में माइक लेकर दिखाई दे रहे पत्रकार के बारे में सवाल किया है. इसके साथ ही कविता कृष्णन के द्वारा आर्मी का सीधा नाम न लेते हुए सेना की वर्दी में दिखाई दे रहे लोग लिखा है. साथ ही मृतक को कश्मीरी युवक के रूप में संबोधित किया है.

इसके बाद इन दोनों के ऊपर लोगों का गुस्सा फूट पड़ा और लोगों ने इन्हें खूब खरी-खोटी सुनाई. मेजर सुरेंद्र ने खुर्रम परवेज को एक फर्जी मानवाधिकार कार्यकर्ता बताया तथा भारतीय सेना के प्रति दुष्प्रचार करने वाला करार दिया है.

Facebook Comments