क्या आप जानतें हैं माथे पर तिलक लगाने का राज…..

दोनों भोंहों के बीच का भाग अग्नि चक्र कहलाता है। इस भाग को थर्ड आई भी कहते हैं क्योंकि यहीं से आपके शरीर में शक्ति का संचार होता है। मनोविज्ञानिकों के मुताबिक यही कारण है कि महिलाएं भी अपने माथे पर बिंदी इसी जगह लगाती हैं। इस जगह टीका लगाने से व्यक्ति का आत्मविश्वास बढ़ता है

काेई भी धार्मिक काम में लाेग माथें पर टीका जरूर लगाते हैं। आमतौर पर लोग चंदन, हल्दी, भस्म और कुमकुम का टीका अपने माथे पर लगाते हैं। क्या आप जानते हैं, सिर्फ धार्मिक कारण से ही नही बल्कि इसके कई वैज्ञानिक कारण भी हैं। जानिए इन तीन कारणाें काे जानने के बाद आप कभी भी घर से निकलने से पहले माथे पर टीका लगाना कभी नहीं भूलेंगे।

माथे पर तिलक लगाने से व्यक्ति काे सुकून का अनुभव हाेता हैं। हल्दी और चंदन के तिलक में बैक्टीरियल तत्व मौजूद होते हैं। जो कई तरह के रोगों से भी व्यक्ति को दूर रखते हैं।

यह बात ताे शायद ही लाेग जानते हाेंगे कि चंदन की टीका माथे पर लगाने से दिमाग में सेराटोनिन और बीटा एंडोर्फिन का स्त्राव संतुलित तरीके से होता है। इससे काेई भी व्यक्ति उदासी भूलकर खुश रहने की कोशिश करता है। इसी कारण मनुष्य खुद को अच्छे कामों में व्यस्त रखने की कोशिश करता रहता है। जिसकी वजह से तनाव और सिरदर्द में भी काफी हद तक कमी आती है।

 

Facebook Comments