इस तरह बिना तोड़-फोड़ के घर के वास्तुदोष को करें खत्म

वास्तुशास्त्र मानव जीवन के लिए वह माध्यम है, जो मानव के लिए खुशियों भरा रास्ता तय करता है। यदि हर इंसान वास्तुशास्त्र के मुताबिक अपने सारे कामों को अंजाम देगा, तो उसके जीवन से परेशानी नाम का शब्द ही हमेशा-हमेशा के लिए मिट जाएगा। लेकिन असल में देखा जाए तो, ऐसा हो पाना काफी मुश्किल है।

आज के समय में हर घर में कोई न कोई परेशानी देखी ही जा सकती है, अगर इन परेशानियों के कारण कि बात की जाए तो इसका एक मात्र कारण वास्तुदोष ही नजर आता है।

अब जरूरी यह नहीं कि वास्तुदोष को ठीक करने के लिए हम घर में किसी प्रकार की तोड़ा-फोड़ी करके वास्तुदोष को खत्म करें, बल्कि इसके अलावा आप बिना किसी नुकसान के भी वास्तुदोष को अपने घर से हमेशा के लिए खत्म कर सकते हैं। तो चलिए जानते हैं, कि हम आखिर कैसे घर के वास्तुदोष को खत्म कर सकते हैं?

मकान के दक्षिण-पश्चिम भाग में भारी सामान रखने तथा छत पर निर्माण कार्य करवा कर उसे भवन का सबसे ऊंचा भाग बनाने से भी वास्तु दोष प्रभावहीन होने लगते हैं। जब तक उपर्युक्त निर्माण न हो सके, तब तक दक्षिण-पश्चिम की दिशा में केबल टी.वी. का एंटीना लगाकर उस भाग को सबसे ऊंचा बनाया जा सकता है।

यदि भवन में कोई भाग वास्तु नियमों के प्रतिकूल बनाया गया हो तथा उस कमरे में दरवाजे के सामने दरवाजे अथवा खिड़कियां बनाना संभव न हो, तब उस कमरे के दरवाजे की बंद दीवार पर दर्पण, महकते फूलों अथवा मनभावन प्राकृतिक दृश्यों के चित्र टांगने से उस दरवाजे से होकर गुजरने वाले प्रत्येक व्यक्ति का ऊर्जा-चक्र पूरा हो जाता है, जिससे वास्तु के दुष्प्रभावों से काफी हद तक बचा जा सकता है।

घर के प्रत्येक कमरे के ईशान कोण को खाली रखने, दक्षिण-पश्चिम कोण पर भारी सामान एवं वस्तुएं रखने तथा जो दरवाजे या खिड़कियां सृजनात्मक दिशाओं में नहीं हैं, उन्हें बंद रखने अथवा कम उपयोग में लाने से भी वास्तु दोषों का दुष्प्रभाव कम होने लगता है।

Facebook Comments