पुलिस से बचने के लिए मंदिर में एक महिला ने अपनी ही बच्ची को जमीन पर पटका…

इलाहाबाद जिले के राजापुर इलाके की निवासिनी महिला अपने पांच वर्ष की बच्ची के साथ बुधवार को सुबह नौ बजे के करीब विंध्याचल पहुंची थी। पुलिसकर्मियों के मुताबिक वह सामान्य श्रद्धालुओं की तरह न्यू वीआईपी रोड से मंदिर के गर्भगृह में जाने वाली लाइन में खड़ी हो गयी।

जब वह मंदिर परिसर में स्थित काली मंदिर के पास पहुंची तो श्रद्धालुओं की भारी भीड़ के चलते उसे लाइन में चेन पहने खड़ी एक महिला के गले पर हाथ साफ करने की कोशिश की। तब तक एक महिला सिपाही की की नजर उस पर पड़ गयी। महिला सिपाही ने सक्रियता दिखाते हुए उसे रंगे हाथ पकड़ लिया। महिला पुलिस ने आस-पास मौजूद दूसरे पुलिसकर्मियों को भी बुला लिया। इससे महिला को लगा कि पुलिस उसके खिलाफ कार्रवाई न कर दे इसलिए बचने के लिए उसने अपनी बच्ची का हाथ पकड़ा और फर्श पर पटक दिया। इससे बच्ची को हल्की चोट भी लगी।

मां विंध्यवासिनी मंदिर परिसर में काली मंदिर के पास बुधवार की सुबह लाइन में लगे श्रद्धालु के गले से चेन निकालते समय पकडे जाने पर महिला चेन स्नेचर ने अपनी पांच वर्ष की बच्ची को उठाकर पटक दी। पुलिस की कार्रवाई से बचने के लिए ऐसा करने से वहां अफराद-तफरा मच गई। पुलिस ने महिला को उसकी बच्ची के साथ हिरासत में लेकर थाने ले गई। पूछताछ में महिला ने बताया कि वह इलाहाबाद जिले के राजापुर इलाके की रहने वाली है।

हालांकि भीड जुटने के कारण बच्ची को बहुत चोट नहीं लगी।उसके इस हरकत से महिला पुलिसकर्मी और आक्रोशित हो गई और उसको बच्ची के साथ कोतवाली ले गई। वहां पूछताछ की गई लेकिन देर शाम तक उसके खिलाफ कार्रवाई नहीं की गई थी।

उधर महिला का आरोप है कि उसको गलत फंसाया जा रहा है। वह मां विंध्यवासिनी का दर्शन पूजन करने आयी थी। उसे जब मां के दरबार में चोर बनाया जाने लगा तब उसने आक्रोशित होकर बेटी को पटक दिया। पुलिसकर्मी उसकी कोई बात ही सुनने को तैयार नहीं हैं।

Facebook Comments