अगर महिलाएं भी बरतें ये सावधानी तो कर सकती हैं हनुमान जी की पूजा…

1. हनुमान जी की पूजा करने के दौरान महिलाएं उनको जनेऊ नहीं अर्पित कर सकती हैं।

2. इसके अलावा हनुमान जी को महिलाएं अपने हाथों से सिंदूर नहीं चढ़ाती हैं। 

संकट मोचन हनुमान अपने भक्तों के सारे संकट हर लेते हैं, जो व्यक्ति इनकी सच्चे मन से आराधना करता है, उसकी परेशानी आने से पहले ही खत्म हो जाती है। भगवान बजरंगबलि को बाल ब्रम्हचारी माना गया है और इसलिए यह हर महिला को माता या फिर बहन कहकर सम्बोधित करते थे। लेकिन वहीं अगर महिलाएं भी भगवान बजरंगबलि की कृपा पाना चाहती हैं, तो इसके लिए उन्हे कई सावधानियां रखनी पड़ती है, क्योंकि भगवान बजरंगबलि ब्रम्हचारी हैं उनके मंदिर के आस-पास महिलाओं का जाना अच्छा नहीं माना जाता है। और अगर महिलाएं भी बजरंगबलि की कृपा पाना चाहती हैं, तो इसके लिए उन्हे कई सावधानी के साथ बजरंगबलि की पूजा करनी पड़ेगी। तो चलिए जानते हैं महिलाओं के द्वारा कौन सी सावधानी बरतना जरूरी माना गया है?

1. हनुमान जी की पूजा करने के दौरान महिलाएं उनको जनेऊ नहीं अर्पित कर सकती हैं।

2. इसके अलावा हनुमान जी को महिलाएं अपने हाथों से सिंदूर नहीं चढ़ाती हैं।

3. महिलाएं हनुमान जी को आसन भी नहीं दे सकतीं। इसके साथ ही महिलाएं को चोला चढ़ाने पर भी पाबंदी है।

4. रजस्वला होने पर हनुमान जी से संबंधित कोई भी कार्य नहीं करने चाहिए।

5. महिलाओं को बजरंग बली की मूर्ति पर पंचामृत स्नांन नहीं कराना चाहिए।

6. कपड़ों का जोड़ा समर्पित करना भी मना है।

Facebook Comments