पहलवान की अचानक मौत से सदमें में खेल जगत….

शुक्रवार को दंगल जीतने के इरादे से उतरे एक युवा पहवान कुश्ती खेलते-खेलते जिंदगी की जंग हार गया।

कुश्ती का खेल वैसे तो भारत में काफी लंबे समय से खेला जा रहा है, लेकिन अभी तक इस खेल में कोई बड़ा हादसा नहीं हुआ है।

घटना महाराष्ट्र के कोल्हापुर में हुई जहां, 20 साल के इस युवा पहलवान नीलेश कंदूरकर की कुश्ती लड़ते-लड़ते मौत हो गई। बताया जा रहा है कि नीलेश बचपन से ही अच्छी कुश्ती लड़ता था लेकिन अब वह इस हुनर को आगे बढ़ाने के लिए मजदूरी के पैसों के सहारे था। कुश्ती के दौरान गर्दन टूटन से नीलेश पिछले 4 दिन से अस्पताल में भर्ती था लेकिन उसकी हालत में कोई सुधार नहीं हुआ और शुक्रवार को उसकी मौत हो गई।

हिन्दुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, इलाके में ज्योतिबा जत्रा नाम का एक कुश्ती टूर्नामेंट आयोजित किया जाता है। यह टूर्नामेंट बंदीवडे गांव में शुरू हुआ। यह टूर्नामेंट खेत की मिट्टी ही होता है। इसमें नीलेश ने भी भाग लिया] लेकिन पहले की दांव में उसे एक बलिष्ठ प्रतिद्वंदी का सामना करना पड़ा। सामने वाला अपना दांव लगाता तो नीलेश भी अपनी टेक्निक से रोकता और उसे पटखनी देने की कोशिश करता। लेकिन तभी सामने वाले पहलवान ने नीलेश की कमर पकड़ ली और उसे हवा में उठा कर पटक दिया।

 

नीलेश के प्रतिद्वंदी ने ऐसा दांव चला कि वह गर्दन के बल पर नीचे हो गया। इसी दौरान नीलेश ने उसके चंगुल से छूटने की कोशिश की और अपनी गर्दन में इतना जोर लगाया कि प्रतिद्वंदी से छूटने की बजाए उसकी गर्दन ही टूट गई। इसके बाद वह मौके पर बेहोश हो गया। इस दौरान उसके चाहने वाले उसका हौसला बढ़ा रहे थे लेकिन नीलेश हिल तक नहीं पा रहा था। तभी मैच कराने वाले अधिकारियों ने देखा कि नीलेश अचेत है और उसे कोई गंभीर चोट लगी है। इसके बाद उसे फौरन अस्पताल ले जाया गया लेकिन वहां कोई आराम नहीं हुआ। अंत में शुक्रवार को नीलेश की मौत हो गई।

 

Facebook Comments